हम जानते हैं कि हनुमान शिव के अवतार हैं, लेकिन इसके पीछे की कहानी क्या है?

यह हनुमान के जन्म के बारे में है

सती की मृत्यु के बाद, शिव का दिल टूट गया था। निराशा में वह सती के शरीर को उठाता है, लाश को अपने कंधों पर उठाता है और अपना तांडव शुरू करता है।
ऐसी अवस्था में शिव को देखना कोई भी पचा नहीं सकता था। तब नारद, विष्णु के पास जाते हैं ताकि उनसे शिव को शांत करने के लिए कहें। विष्णु उसे शांत करने के लिए प्रकट होते हैं, लेकिन कुछ भी नहीं कर सकते क्योंकि शिव को शांत करना और उनके क्रोध का सामना करना संभव नहीं है। इसलिए वह सती के शरीर को काटने के लिए अपने चक्र का उपयोग करता है। वह इसे उसी समय प्रोजेक्ट करता है जब शिव के पैर जमीन को छूते हैं। इस तरह, शिव के कदम चक्र की ध्वनि से मेल खाते हैं और उन्हें पता नहीं चलेगा। लाश को 18 भागों में काट दिया गया। वे भाग पृथ्वी पर गिर गए और 18 शक्तिपीठ बन गए।
कुछ समय बाद जब उसे पता चला कि उसके कंधों पर कोई भार नहीं है, तो शिव को पता चलता है कि क्या हुआ है। उदासी से बाहर, वह विष्णु को पृथ्वी पर जन्म लेने का शाप देता है, अपनी पत्नी से अलग हो जाता है और पति या पत्नी से अलग होने का दर्द अनुभव करता है। इसलिए विष्णु और लक्ष्मी राम और सीता के रूप में जन्म लेते हैं।
शिवा कुछ समय बाद शांत हो जाता है और महसूस करता है कि उसने क्या किया है। इसलिए वह विष्णु के पास जाता है और कहता है कि वह शाप वापस नहीं ले सकता, लेकिन निश्चित रूप से उसकी मदद करेगा और दर्द को साझा करेगा। इसलिए वह वादा करता है कि वह हनुमान के रूप में जन्म लेगा ताकि विष्णु अपने खोए हुए कंस को खोजने में मदद कर  सके।

दूसरी जगह हनुमान जी का कुछ इस तरह वर्णन है👇


रुद्रावतार हनुमान
श्रीरामावतार के समय ब्रह्माजी ने देवताओं को वानर और भालुओं के रूप में पृथ्वी पर प्रकट होकर श्रीराम की सेवा करने का आदेश दिया था। सभी देवता अपने-अपने अंशों से वानर और भालुओं के रूप में उत्पन्न हुए। सृष्टि के संहारक भगवान रुद्र भी अपने प्रिय श्रीहरि की सेवा करने तथा कठिन कलिकाल में भक्तों की रक्षा करने की इच्छा से पवनदेव के औरस पुत्र और वानरराज केसरी के क्षेत्रज पुत्र हनुमान के रूप में अवतरित हुए।
जेहि शरीर रति राम सों सोइ आदरहिं सुजान।
रुद्रदेह तजि नेहबस बानर भे हनुमान।। (दोहावली १४२)
स्कन्दपुराण में भी ऐसा ही उल्लेख मिलता है।
एक अन्य मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु के मोहिनीस्वरूप पर आसक्त शिवजी के स्खलित तेज को देवताओं ने गौतम ऋषि की पुत्री अंजनी के गर्भ में वायु द्वारा स्थापित कर दिया, जिससे शिव के अंशावतार हनुमानजी प्रकट हुए। अत: हनुमानजी रुद्रावतार माने जाते हैं। हनुमान तन्त्रग्रन्थों में उनका ध्यान, जप, मन्त्र आदि रुद्र रूप में ही किया जाता है।
हनुमद् गायत्री में भी उन्हें रुद्र कहा गया है–
‘ॐ वायुपुत्राय विद्महे वज्रांगाय धीमहि तन्नो रुद्र: प्रचोदयात्।’
हम जानते हैं कि हनुमान शिव के अवतार हैं, लेकिन इसके पीछे की कहानी क्या है? हम जानते हैं कि हनुमान शिव के अवतार हैं, लेकिन इसके पीछे की कहानी क्या है? Reviewed by Niranjan Yamgar on May 03, 2019 Rating: 5

No comments